सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Gajal Poem Class 10 Explanation In Hindi | गजल कविता स्पष्टीकरण | कक्षा १० वीं

 गजल

नमस्ते विद्यार्थियों,

आज हम गजल के अंतर्गत आए हुए शेरों का स्पष्टीकरण देखेंगे । यह गजल कविता कक्षा १० वीं Gajal Poem Class 10Th की हिंदी लोकभारती पाठ्यपुस्तक की है । 


८. गजल

- मानिक वर्मा 


Gajal Poem Explanation | MrSuryawanshi.com
Gajal Poem Explanation | MrSuryawanshi.com



Gajal Poem Class 10 Explanation In Hindi | गजल कविता स्पष्टीकरण | कक्षा १० वीं 


आपसे किसने कहा स्‍वर्णिम शिखर बनकर दिखो, 
शौक दिखने का है तो फिर नींव के अंदर दिखाे ।


शब्दार्थ: 

१) स्वर्णिम = सोने के रंग का, सुनहरा सोनेरी, Golden.

२) शिखर = चोटी, सिरा, किसी चीज का सबसे ऊपरी भाग, Peak.


( स्वर्णिम शिखर = सबसे सुंदर )


३) शौक = लालसा, ख्वाइश ।

४) नींव = आधार, मकान / दीवार का निचला हिस्सा, Foundation. 


स्पष्टीकरण:


शिखर का अर्थ होता है चोटी या किसी चीज का ऊपरी भाग । नींव, वह चीज है जो हमें नजर नहीं आती । परंतु यह चोटी या यह ऊपरी भाग उसकी नींव की वजह से ही है । यह नींव न होगी तो यह स्वर्णिम शिखर अर्थात यह सबसे सुंदर दिखने वाला हिस्सा भी नहीं होगा । कवि का कहना है कि ऊपर से ( बाहर से ) दिखने की बजाय अंदर से दिखो ।


अंदर से दिखो अर्थात अपने आपको भीतर से सुंदर बनाओ । आपका बाहरी सौंदर्य आज है कल नहीं है,  परंतु भीतर से सुंदर व्यक्ति का सौंदर्य कभी भी काम नहीं होता । जैसे - छत्रपति शिवाजी महाराज, डॉक्टर बाबा साहेब आंबेडकर, संत गाडगे महाराज, ज्योतिबा फूले, सावित्रीबाई फूले, संत कबीर आदि महापुरुष भीतर से सुंदर थे इसीलिए इनके कार्यों में भी सुंदरता नजर आती है । भारत के लोग कल भी इनकी पूजा करते थे, आज भी करते हैं और कल भी करते रहेंगे । इन महापुरुषों को इनके भीतरी सौंदर्य ने अमर बना दिया । इस शेर में कवि का कहना है की सिर्फ बाहर से सुंदर दिखना मतलब सुंदरता नहीं है । सच्ची सुंदरता व्यक्ति के भीतर है । लेखक भीतर से सुंदर होने की सीख दे रहे है ।



चल पड़ी तो गर्द बनकर आस्‍मानों पर लिखो,
और अगर बैठो कहीं ताे मील का पत्‍थर दिखाे ।


शब्दार्थ: 

१) गर्द = धूल, Dust.

२) मील का पत्थर = Mile Stone / एक मुहावरा ( मील का पत्थर होना = प्रभावशाली होना )


स्पष्टीकरण:


कवि का कहना है कि जब धूल चलती है अर्थात जब धूल उड़ती है तब वह आसमान में छा जाती है, दूर - दूर तक जाती है । कवि का कहना है कि हमें भी उस धूल की तरह ही चलना है, अर्थात जब हमारे चलने का समय हो अर्थात हमारे मेहनत करने का समय हो तो इतनी मेहनत करनी चाहिए कि हमारा नाम भी दूर - दूर तक पहुँचे । जब बैठो कहीं तो मील का पत्थर दिखो । अर्थात जब कभी भी हमारे रुकने का समय हो, तो हमें मील के पत्थर की तरह दिखना है । मील का पत्थर राही को रास्ता दिखाता है, पथिक के मन में उम्मीद जगाए रखता है, मील का पत्थर लक्ष्य तक की दूरी बताता है । एक तरह से मील का पत्थर राही का मार्गदर्शन करता है । कवि का कहना है कि हमें इतनी मेहनत करनी है कि जब हम थक जाए ( मतलब हम हमारे काम से सेवानिवृत्त / Retired हो जाए ) तो हमें देखकर ही लोगों का मार्गदर्शन हो जाए । हमारी उपलब्धि / Achivement  देखकर मेहनत के प्रति उनकी उम्मीद बनी रहे । उन्हें यह पता चले की मेहनत से प्राप्त किया जा सकता है । इस गजल में कवि मेहनत का महत्त्व सीखा रहे है । 


🙋 हमारे YouTube Channel से जुड़ने के लिए यहाँ Click कीजिए 👉 YouTube 🎥


सिर्फ देखने के लिए दिखना कोई दिखना नहीं,
आदमी हो तुम अगर तो आदमी बनकर दिखाे ।


स्पष्टीकरण:

 

कवि का कहना है कि दिखने के लिए दिख रहे हो अर्थात किसी को दिखाने के लिए आप दिख रहे हो तो यह दिखना नहीं है । मतलब दूसरों को दिखाने के लिए या जताने के लिए आप अच्छे इंसान बन रहे हो तो आप अच्छे इंसान नहीं हो । जैसे की हम दान देते हैं, गरिबों को खाना खिलाते हैं, किसी की शिक्षा का खर्च उठाते है, परंतु इन सभी चीजों की video recording कर के हम हमारे दर्शकों के समक्ष प्रस्तुत करते है तो हम कोई अच्छे इंसान नहीं है । हमारे अंदर दूसरों के लिए कोई दया नहीं है । हमने सिर्फ अच्छाई का चोंगा ( लिबास ) पहना है । हम सिर्फ अपने दर्शकों को दिखाना चाहते है कि हम अच्छे है, हमारे दिल में गरीबों के प्रति दया है । परंतु हम सिर्फ और सिर्फ दिखाना चाहते है, हम कोई अच्छे इंसान नहीं है । कवि का कहना है कि आदमी हो तो आदमी दिखों । अर्थात इंसान हो तो इंसान दिखों, सच्चे हो तो सच्चे दिखों, किसी को जताओ या दिखाओ मत । इस शेर में कवि दिखावे की अपेक्षा वैसा बनने की सीख दे रहे है ।


स्पष्टीकरण: २


कवि का कहना है कि सिर्फ दिखावे के लिए अच्छा मत बनो । आप अगर किसी को बताने के लिए या जताने के लिए अच्छा बन रहे हो तो आप कोई अच्छे नहीं हो । आप दूसरों को धोका दे रहे हो । शक्ल सूरत से इंसान परंतु कर्मों से हैवान मत बनो ।



जिंदगी की शक्‍ल जिसमें टूटकर बिखरे नहीं,
पत्‍थरों के शहर में वो आईना बनकर दिखो ।


स्पष्टीकरण:


कवि का कहना है, यह शहर पत्थरों का है और हमें वह आइना बनना है, जो पत्थरों की चोट से बिखरे ना । इस शेर में कवि हमें मजबूत इंसान बनने की सीख दे रहे है । 


आपको महसूस होगी तब हरइक दिल की जलन, 
जब किसी धागे-सा जलकर मोम के भीतर दिखाे ।


स्पष्टीकरण:


कवि का कहना है कि एक धागे पर क्या बीत रही है यह आपको तब पता चलेगा जब आप उस धागे की तरह मोम के भीतर जलोगे । अर्थात किसी पर क्या बीत रही है यह हमें तब पता चलेगा जब उसके जैसी स्थिति में हम होंगे । हमें किसी का दुख, किसी के विचार, किसी का बर्ताव तब समझ आएगा जब उन्ही के जैसा दुख, उन्ही के जैसे हालात हमारी हो । जैसे - महलों में बैठकर गरीबी की पीड़ा, जीने के प्रति रोज का संघर्ष नहीं समझ सकते । जब कोई व्यक्ति किसीको बहुत चाहता है परंतु जिसे वह चाहता है अगर वह व्यक्ति उसे छोड़कर चला जाए तब वह व्यक्ति बहुत ज्यादा दुखी हो जाता है, हम उस व्यक्ति को उसके दुख से बाहर निकलने का बहुत प्रयत्न करते है । कभी कभार तो हम उन्हे मूर्ख भी समझते है, कवि का कहना है कि आपको उस व्यक्ति का दुख तब महसूस होगा जब वैसी ही स्थिति में आप होंगे । 



एक जुगनू ने कहा मैं भी तुम्‍हारे साथ हूँ, 
वक्‍त की इस धुंध में तुम रोशनी बनकर दिखो ।


शब्दार्थ: 

१) धुंध = धुआँ, कोहरा 


स्पष्टीकरण:

इस शेर में हमें रोशनी बनने के लिए कहा है और एक छोटा सा जुगनू कह रहा है कि रोशनी बनने के इस सफर में वह हमारे साथ है ।


इस शेर में कवि हमें सहायता करने के लिए कह रहे है । हमारे द्वारा की गई सहायता हमारे लिए छोटी हो सकती है परंतु हमारी वही छोटी सी सहायता, जिसे सहायता दी जा रही है उसके लिए बड़ी साबित हो सकती है । छोटी - छोटी सहायता से ही किसी को अपनी बड़ी समस्या से लड़ने में बल प्राप्त हो सकता है । 


स्पष्टीकरण: २


कवि का कहना है कि अगर हम किसी को छोटी - सी भी मदद कर सकते है तो हमें करना चहिए । हमारी नज़रों में वह एक छोटी - सी मदद होगी परंतु  जिसे हम मदद कर रहे है उसके लिए वह मदद बहुत बड़ी हो सकती है । कवि का कहना है कि जुगनू नामक छोटा - सा कीड़ा अपनी ओर से जितनी हो सके उतनी मदद करता है । घने अंधेरे में फसे लोगों के लिए जुगनू की कुछ क्षण की रोशनी भी रास्ते का काम करती है ।



एक मर्यादा बनी है हम सभी के वास्‍ते,
गर तुम्‍हें बनना है मोती सीप के अंदर दिखो ।


स्पष्टीकरण:


इस शेर में कवि हमें मर्यादा का महत्त्व सीखा रहे है ।  पत्थर सीप के अंदर रहता है तभी वह मौल्यवान मोती बन पता है । हमें भी मोती की तरह मौल्यवान बनना है तो हमें हमारी मर्यादा पता होनी चाहिए ।


डर जाए फूल बनने से कोई नाजुक कली, 
तुम ना खिलते फूल पर तितली के टूटे पर दिखो ।


स्पष्टीकरण:


इस शेर में एक कली फूल बनने से डर रही है और कवि उस कली को तितली का संघर्ष बता रहे है । कवि का कहना है कि किसी के भविष्य में क्या लिखा है यह किसी को नहीं पता, संघर्ष तो सभी को करना है, ऐसा नहीं है कि कठिन संघर्ष के बाद आपको संघर्ष ही न करना पड़े । जैसे - तितली । तितली, तितली बनने से पहले भी बहुत संघर्ष करती है इसके उपरांत भी पेट भरने के संघर्ष में उसकी मृत्यु हो सकती है, उसके पर टूट जाते है । अर्थात जीवन का नाम ही संघर्ष है । इसीलिए काली को डरना नहीं चाहिए कि भविष्य में जब वह फूल बनेगी तब उसे कोई नहीं सताएगा । कवि का कहना है कि अगर भविष्य की चिंता करके हम आज के कार्य ही करना छोड़ दे तो यह गलत है ।


कोई ऐसी शक्ल तो मुझको दिखे इस भीड़ में,
मैं जिसे देखूँ उसी में तुम मुझे अक्‍सर दिखो ।


स्पष्टीकरण:


कवि का कहना है कि हमें अपनी एक खास पहचान बनानी है । हमें अपने कार्य की छाप छोड़नी है ।


जब हमारे जैसे गुण किसी अन्य में नजर आए तो उसे हमारा स्मरण हो । जब हमसे विपरित गुण भी किसी और में नजर आए तो उसे ऐसा लगाना चाहिए कि काश ! यह व्यक्ति हमारी तरह होता तो कितना अच्छा होता । 


🙋 हमारे YouTube Channel से जुड़ने के लिए यहाँ  Click कीजिए 👉 YouTube 🎥

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Apne Vidyalaya Me Aayojit Vigyan Pradarshani Ke Udghatan Samaroh Ka Vritant Lekhan Karo | अपने विद्यालय में आयोजित विज्ञान प्रदर्शनी के उदघाटन समारोह का वृत्तांत लेखन

पाठ ५. मधुबन का स्वाध्याय के अंतर्गत आया प्रश्न ' अपने विद्यालय में आयोजित विज्ञान प्रदर्शनी के उदघाटन समारोह का प्रमुख मुद्दों सहित वृत्तांत लेखन करो ' का एक उदाहरण उत्तर यहाँ दिया गया है | दिए गए उत्तर को पढ़ कर आप स्वयं उत्तर बनाने का प्रयास कर सकते हैं | Maharashtra Board Solutions For Class 8 अपने विद्यालय में आयोजित विज्ञान प्रदर्शनी के उदघाटन समारोह का प्रमुख मुद्दों सहित वृत्तांत लेखन करो । Apne Vidyalaya Me Aayojit Vigyan Pradarshani Ke Udghatan Samaroh Ka Vritant Lekhan Karo | Madhuban Swadhyay  उत्तर : विज्ञान प्रदर्शनी का उदघाटन समारोह । २८ फरवरी, २०२१ विज्ञान दिवस के उपलक्ष्य में मुंबई के 'महात्मा ज्योतिबा फुले विद्यालय' द्वारा तीन दिवसीय विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। प्रदर्शनी के उदघाटन हेतु 'वैज्ञानिक अशोक जी' को आमंत्रित किया गया था। प्रदर्शनी का प्रथम दिन नगर के मान्यवरों, विद्यालय के विद्यार्थियों और उनके अभिभावकों के लिए था । शेष दो दिन अन्य विद्यालयों के विद्यार्थियों, उनके अभिभावकों और शिक्षकों के लिए रखा गया था । विद्यालय के विविध

Apne Mitra Saheli Ko Deepavali Ki Chhuttiyon Me Apne Ghar Nimantrit Karane Vala Patra Likho | अपने मित्र / सहेली को दीपावली की छुट्टियों में अपने घर निमंत्रित करने वाला पत्र लिखो

नमस्ते पाठकों,  यह Blog पत्र लेखन ( Patra Lekhan ) में आप का सहायक होगा । इस ब्लॉग का विषय निम्नवत है : अपने मित्र / सहेली को दीपावली की छुट्टियों में अपने घर निमंत्रित करने वाला पत्र लिखो | Apne Mitra Saheli Ko Deepavali Ki Chhuttiyon Me Apne Ghar Nimantrit Karane Vala Patra Likho | यह विषय कक्षा ८ वीं की हिंदी पाठ्यपुस्तक से लिया गया है | Maharashtra Board Solutions For Class  8   अपने मित्र / सहेली को दीपावली की छुट्टियों में अपने घर निमंत्रित करने वाला पत्र लिखो |Apne Mitra Saheli Ko Deepavali Ki Chhuttiyon Me Apne Ghar Nimantrit Karane Vala Patra Likho | Varis Kon Swadhyay  १ अक्टूबर, २०२२ प्रिय मित्र आदर्श,  नमस्कार ! aadarsh@gmail.com तुम्हारा पत्र मिला । पत्र पढ़कर बहुत खुशी हुई । मेरे भी विद्यालय को १५ नवंबर तक छुट्टी रहेगी । पिछली बार तुमने दीपावली की छुट्टियों में मुझे अपने यहाँ बुलाया था । इस बार मैं तुम्हें मेरे घर आने के लिए निमंत्रित कर रहा हूँ । हम यहाँ खेलेंगे, घूमेंगे और खूब मजा करेंगे । मेरे माता-पिता तुम्हें देखकर बहुत खुश होंगे ।  कब आ रहे हो ? जल्द सूचित करन

Apne Vidyalaya Me Aayojit Swachchhata Abhiyan Ka Vritant Likho | अपने विद्यालय में आयोजित स्वच्छता अभियान का वृत्तांत लिखो |

पाठ ७. स्वराज्य मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है का स्वाध्याय अपने विद्यालय में आयोजित स्वच्छता अभियान का वृत्तांत लिखो | वृत्तांत में स्थल, काल, घटना का उल्लेख आवश्यक है | इस प्रश्न के लिए एक उदाहरण उत्तर यहाँ दिया गया है | इस वृत्तांत को पढ़कर आप स्वयं स्वच्छता अभियान का वृत्तांत ( Swachhata Abhiyan Ka Vritant ) लिख सकते हैं | Maharashtra Board Solutions For Class 8 अपने विद्यालय में आयोजित स्वच्छता अभियान का वृत्तांत लिखो |Apne Vidyalaya Me Aayojit Swachchhata Abhiyan Ka Vritant Likho | Swarajya Mera Janmasiddha Adhikar Hai Swadhyay  उत्तर:     स्वच्छता अभियान भारत में स्वच्छता अभियान की शुरुआत करनेवाले 'संत गाडगे बाबा जी' का जन्मदिन 'सेंट थॉमस स्कूल' इस विद्यालय में 'स्वच्छता अभियान' के रूप में मनाया गया । फरवरी २३, सुबह की प्रार्थना के बाद सभी विद्यार्थी स्वच्छता अभियान में अपना सहयोग देने हेतु उत्सुक थे । किसी भी विद्यार्थी को कोई भी जिम्मेदारी नहीं सौंपी गई थीं; उन्हें सिर्फ इतना ही बताया गया था कि विद्यालय को स्वछ करना है । विद्यार्थियों को स्वच्छता करने में