सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Bharat Mahima | भारत महिमा | mrsuryawanshi.com

नमस्ते पाठकों,

भारत महिमा ( Bharat Mahima ) इस ब्लॉग में ' मेरा भारत महान ' ( Mera Bharat Mahan ) इस कथन का वर्णन करने का एक प्रयास किया गया है । हमारा भारत देश, हमारें राजा-महाराजा, साधु-सन्यासी, और महात्माओं का जितना वर्णन करें उतना कम होगा । इस ब्लॉग को पढ़ने के उपरांत आप फिर से एक बार कह उठेंगे मेरा भारत महान | MrSuryawanshi.Com


भारत महिमा | Bharat Mahima


भारत महिमा | Bharat Mahima 

भारत के इतिहास को कुछ चुनिंदा वाक्यों में बताना संभव नहीं है । फिर भी हम भारत के इतिहास को संक्षिप्त में बताने का प्रयास जरूर कर सकते हैं ।


भारत को खोजने का प्रयास अनेकोने किया । क्रिस्टोफर कोलंबस भारत की खोज करने के लिए निकले थे । उन्होंने एक ज़मीन खोजी भी थी , उन्हे अंत तक यही लगा कि वे भारत की खोज में सफल हुए परंतु वह भारत की बजाय अमेरिका खोज बैठे । भारत को खोजने का श्रेय वास्को द गामा को जाता है । वैसे भारत कही खोया हुआ नहीं था । भारत अपनी जगह पर ही था । वह लोग भारत आने का रास्ता खोज रहे थे । ऐसा क्यों ? क्योंकि भारत हिरे, सोने, रेशम, और मसाले से सजी हुई धरती थी ।


भारत वह धरती है जहाँ स्त्री की अब्रु पर हाथ डालने के कारणवश पाँच पांडवो ने अपने सौ भाईयों का वध कर डाला । भारत वह भूमि है जहाँ सत्ता राजगद्दी पाने हेतु औरंगजेब ने अपने सभी भाईयों का वध किया । भारत वह धरती हैं जहाँ राजाओं ने अपना राजपाठ और मानवों का वध छोड़कर संन्यासी ( भिक्षुक ) जीवन बिताते हुए अहिंसा की शक्ति का परिचय कराया । भारत वह धरती हैं जहाँ छत्रपति शिवाजी महाराज जी जैसे महायोद्धा ने जन्म लिया । जिनकी तारीफ़ उन्ह के जानी दुश्मन राजाओं ने भी की । जिनकी युद्ध नीति पर आज भी विदेशों में पाठ पढ़ाए जाते हैं । भारत में ऐसे मुस्लिम राजा हुए जिन्होंने अपने राज्य में हिंदू प्रजा के लिए मंदिर बनाए और ऐसे हिंदू राजा भी हुए जिन्होंने अपने राज्य में मस्जिद भी बनवाई ।


कमजोर समझी जानेवाली औरतों ने भी नाजुक चूड़ियों को छोड़कर एकता और निडरता के गहनों से सझकर धरती को लहुलुहान करनेवाले सम्राट अशोक को तलवार छोड़ने पर मजबूर कर दिया ।

 

हमारी भारत भूमि का इतिहास अस्त्र - शास्त्रों तक ही सीमित नहीं है। बिना किसी हत्यार के भी जुल्म के ख़िलाफ़ लड़कर डॉ. बाबा साहेब अंबेडकर जी ने विश्व में अपना और अपने देश का नाम रोशन किया । गणित की जटिल प्रकिया को आसान करने वाले आर्यभट्ट ने भी  हमारी ही धरती पर जन्म लिया । हमारी ही धरती पर दान वीर कर्ण ने जन्म लिया जिन्होंने अपनी जान दान में दे दी । 


बड़े तो बड़े इस धरती के बच्चों ने भी अपने साहस का लोहा मनवाया । महाबली योद्धाओं से भरे चक्रव्युह को नष्ट करने का प्रयास अकेले बालक अभिमन्यु ने किया । 


बालक एकलव्य ने अपने गुरु की आज्ञा का पालन करते हुए गुरु दक्षिणा के रूप में अपने हाथ का अंगूठा काटकर अपने गुरु के चरणों में रख दिया।


इस भूमि के पास अपना जितना था जो था वह सब देती रही । चाहे लोग पाक हो या नापाक इस धरती ने कभी भी किसी के साथ भी भेदभाव नहीं किया ।


पढ़ने हेतु:

  • स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 

कोई सुझाव हो; तो हमें Comment कर के जरूर बताइए | MrSuryawanshi.Com को जरूर Follow कीजिए |



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Apne Vidyalaya Me Aayojit Vigyan Pradarshani Ke Udghatan Samaroh Ka Vritant Lekhan Karo | अपने विद्यालय में आयोजित विज्ञान प्रदर्शनी के उदघाटन समारोह का वृत्तांत लेखन

पाठ ५. मधुबन का स्वाध्याय के अंतर्गत आया प्रश्न ' अपने विद्यालय में आयोजित विज्ञान प्रदर्शनी के उदघाटन समारोह का प्रमुख मुद्दों सहित वृत्तांत लेखन करो ' का एक उदाहरण उत्तर यहाँ दिया गया है | दिए गए उत्तर को पढ़ कर आप स्वयं उत्तर बनाने का प्रयास कर सकते हैं | Maharashtra Board Solutions For Class 8 अपने विद्यालय में आयोजित विज्ञान प्रदर्शनी के उदघाटन समारोह का प्रमुख मुद्दों सहित वृत्तांत लेखन करो । Apne Vidyalaya Me Aayojit Vigyan Pradarshani Ke Udghatan Samaroh Ka Vritant Lekhan Karo | Madhuban Swadhyay  उत्तर : विज्ञान प्रदर्शनी का उदघाटन समारोह । २८ फरवरी, २०२१ विज्ञान दिवस के उपलक्ष्य में मुंबई के 'महात्मा ज्योतिबा फुले विद्यालय' द्वारा तीन दिवसीय विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। प्रदर्शनी के उदघाटन हेतु 'वैज्ञानिक अशोक जी' को आमंत्रित किया गया था। प्रदर्शनी का प्रथम दिन नगर के मान्यवरों, विद्यालय के विद्यार्थियों और उनके अभिभावकों के लिए था । शेष दो दिन अन्य विद्यालयों के विद्यार्थियों, उनके अभिभावकों और शिक्षकों के लिए रखा गया था । विद्यालय के विविध

Apne Mitra Saheli Ko Deepavali Ki Chhuttiyon Me Apne Ghar Nimantrit Karane Vala Patra Likho | अपने मित्र / सहेली को दीपावली की छुट्टियों में अपने घर निमंत्रित करने वाला पत्र लिखो

नमस्ते पाठकों,  यह Blog पत्र लेखन ( Patra Lekhan ) में आप का सहायक होगा । इस ब्लॉग का विषय निम्नवत है : अपने मित्र / सहेली को दीपावली की छुट्टियों में अपने घर निमंत्रित करने वाला पत्र लिखो | Apne Mitra Saheli Ko Deepavali Ki Chhuttiyon Me Apne Ghar Nimantrit Karane Vala Patra Likho | यह विषय कक्षा ८ वीं की हिंदी पाठ्यपुस्तक से लिया गया है | Maharashtra Board Solutions For Class  8   अपने मित्र / सहेली को दीपावली की छुट्टियों में अपने घर निमंत्रित करने वाला पत्र लिखो |Apne Mitra Saheli Ko Deepavali Ki Chhuttiyon Me Apne Ghar Nimantrit Karane Vala Patra Likho | Varis Kon Swadhyay  १ अक्टूबर, २०२२ प्रिय मित्र आदर्श,  नमस्कार ! aadarsh@gmail.com तुम्हारा पत्र मिला । पत्र पढ़कर बहुत खुशी हुई । मेरे भी विद्यालय को १५ नवंबर तक छुट्टी रहेगी । पिछली बार तुमने दीपावली की छुट्टियों में मुझे अपने यहाँ बुलाया था । इस बार मैं तुम्हें मेरे घर आने के लिए निमंत्रित कर रहा हूँ । हम यहाँ खेलेंगे, घूमेंगे और खूब मजा करेंगे । मेरे माता-पिता तुम्हें देखकर बहुत खुश होंगे ।  कब आ रहे हो ? जल्द सूचित करन

Apne Vidyalaya Me Aayojit Swachchhata Abhiyan Ka Vritant Likho | अपने विद्यालय में आयोजित स्वच्छता अभियान का वृत्तांत लिखो |

पाठ ७. स्वराज्य मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है का स्वाध्याय अपने विद्यालय में आयोजित स्वच्छता अभियान का वृत्तांत लिखो | वृत्तांत में स्थल, काल, घटना का उल्लेख आवश्यक है | इस प्रश्न के लिए एक उदाहरण उत्तर यहाँ दिया गया है | इस वृत्तांत को पढ़कर आप स्वयं स्वच्छता अभियान का वृत्तांत ( Swachhata Abhiyan Ka Vritant ) लिख सकते हैं | Maharashtra Board Solutions For Class 8 अपने विद्यालय में आयोजित स्वच्छता अभियान का वृत्तांत लिखो |Apne Vidyalaya Me Aayojit Swachchhata Abhiyan Ka Vritant Likho | Swarajya Mera Janmasiddha Adhikar Hai Swadhyay  उत्तर:     स्वच्छता अभियान भारत में स्वच्छता अभियान की शुरुआत करनेवाले 'संत गाडगे बाबा जी' का जन्मदिन 'सेंट थॉमस स्कूल' इस विद्यालय में 'स्वच्छता अभियान' के रूप में मनाया गया । फरवरी २३, सुबह की प्रार्थना के बाद सभी विद्यार्थी स्वच्छता अभियान में अपना सहयोग देने हेतु उत्सुक थे । किसी भी विद्यार्थी को कोई भी जिम्मेदारी नहीं सौंपी गई थीं; उन्हें सिर्फ इतना ही बताया गया था कि विद्यालय को स्वछ करना है । विद्यार्थियों को स्वच्छता करने में